आशुतोष विश्वकर्मा (वेबसाइट/पोर्टल के स्वामी, संचालक) मो.नं. 8839215630, ई-मेल : branding.executive03234@gmail.com
छोटू यादव (संपादक) मो.नं. 8103624121, ई-मेल : contact@centralnews-india.com

संपादकीय कार्यालय का पता : सेंट्रल न्यूज़ इंडिया - देवांगन बड़ी, सत्यम विहार कॉलोनी, रायपुरा, रायपुर, छत्तीसगढ़, पिन कोड 492013

न्यूज़ वेबपोर्टल पंजीयन क्रमांक : CG14D0018162

 

Breaking

अपनी भाषा चुने

POPUP ADD

सी एन आई न्यूज़

सी एन आई न्यूज़ रिपोर्टर/ जिला ब्यूरो/ संवाददाता नियुक्ति कर रहा है - छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेशओडिशा, झारखण्ड, बिहार, महाराष्ट्राबंगाल, पंजाब, गुजरात, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटका, हिमाचल प्रदेश, वेस्ट बंगाल, एन सी आर दिल्ली, कोलकत्ता, राजस्थान, केरला, तमिलनाडु - इन राज्यों में - क्या आप सी एन आई न्यूज़ के साथ जुड़के कार्य करना चाहते होसी एन आई न्यूज़ (सेंट्रल न्यूज़ इंडिया) से जुड़ने के लिए हमसे संपर्क करे : हितेश मानिकपुरी - मो. नं. : 9516754504 ◘ मोहम्मद अज़हर हनफ़ी - मो. नं. : 7869203309 ◘ शक्तिधर दीवान - मो. नं. : 9753021021 ◘ आशुतोष विश्वकर्मा - मो. नं. : 8839215630 ◘ सोना दीवान - मो. नं. : 9827138395 ◘ शिकायत के लिए क्लिक करें - Click here ◘ फेसबुक  : cninews ◘ रजिस्ट्रेशन नं. : • Reg. No.: EN-ANMA/CG391732EC • Reg. No.: CG14D0018162 

Tuesday, May 17, 2022

जब बाघ पर ग्रामीणों ने घेरकर बरसाए पत्थर और,,,


जब बाघ पर ग्रामीणों ने घेरकर बरसाए पत्थर और,,,

सीएन आई न्यूज सिवनी म.प्र.से छब्बी लाल कमलेशिया की रिपोर्ट

 सिवनी  विकासखंड केवलारी के उगली के समीप बेलगांव में आज सुबह लगभग 8:00 बजे पीपरताल तालाब के आसपास तेंदूपत्ता तोड़ रहे ग्रामवासियों को जब समीप के तालाब में पानी पीते बाग को देखा तो हड़कंप मच गया गांव के पास बाघ पहुंचने की खबर जैसे-जैसे ग्राम वासियों को लगी हाथ में लाठी डंडे लेकर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके स्थल पर पहुंच गए।

जिला मुख्यालय से लगभग 55 किलोमीटर दूर वन विकास निगम के अंतर्गत बेलगांव में पानी पीने आए तो बाघ शावकों को ग्रामीणों की भीड़ ने घेर लिया।इस दौरान कुछ ग्रामीणों ने शावकों को पत्थर भी मारे।

दोपहर लगभग 1.30 बजे सिवनी से पहुंचे बचाव दल ने जाल की मदद से दोनों बाघ शावकों को पकड़ लिया है।यह दल बाघ शावकों को लेकर कान्हा रेस्क्यू सेंटर रवाना हो गया है।

उगली थाना क्षेत्र के बेलगांव स्थित पीपरताल तालाब के पास मंगलवार सुबह करीब 8 बजे 14 से 15 माह उम्र के दो बाघ शावक पानी पीने के लिए पहुंचे थे। तालाब के पास ही तेंदूपत्ता संग्राहकों शावकों को ने देख लिया और हल्ला मचाया। देखते ही देखते हजारों की तादाद में ग्रामीण हाथों में डंडा लिए मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों ने बाघ शावकों को घेरकर मारने का प्रयास भी किया।हालांकि सूचना मिलने के कुछ देर बाद उगली पुलिस व स्थानीय अमला मौके पर पहुंचे और स्थिति को संभालने का प्रयास किया। सिवनी से पहुंचे बचाव दल ने दोपहर करीब 2.45 बजे दोनों बाघ शावकों को पकड़ कर अपने कब्जे में लिया।इस दौरान 7 घंटे तक बाघ शावकों की जान जोखिम में रही।

शावक को पत्थर मार कर किया घायल

मौके पर एकत्रित बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ में से कुछ ग्रामीणों ने दूर से बाघ शावक पर पत्थरों से वार किए। इंटरनेट मीडिया में वायरल हो रहे वीडियो में कुछ ग्रामीण झाड़ियों में छिपे बाघ शावक पर पत्थर मारते दिखाई दिए।वही एक बाघ शावक घायल अवस्था में लंगड़ा कर चलते दिखाई दिया। इससे यह संभावना व्यक्त की जा रही है कि ग्रामीणों द्वारा किए गए हमले से बाघ शावक बुरी तरह घायल हुआ है, हालांकि वायरल वीडियो में कुछ ग्रामीण बाघ शावकों नहीं मारने की बात भी कह रहे थे।वही चारों ओर से लाठियों से लैस ग्रामीणों से घिरा बाघ शावक डरा सहमा नजर आ रहा था।इस मामले में सीसीएफ एसएस उद्दे ने बताया है कि कोई भी बाघ शावक घायल नहीं हुआ है।

दोनों बाघ शावकों को पकड़ने के लिए पेंच राष्ट्रीय उद्यान के डिप्टी डायरेक्टर रजनीश सिंह, पेंच राष्ट्रीय उद्यान के डाक्टर अखिलेश मिश्राश, दक्षिण सामान्य वन मंडल के डीएफओ सुरेश महिवाल, वन विकास निगम की डीएम भारतीय ठाकरे व एसडीओ योगेश पटेल मौके पर पहुंचे। करीब 1.30 बजे पहुंचे इस बचाव दल ने शावकों के आसपास से ग्रामीणों को काफी दूर कर दिया।इसके बाद जाल की मदद से बाघ शावकों को पकड़ने की कवायद शुरू की। करीब 1 घंटे की मशक्कत के बाद 2.45 बजे बाघ शावक को पकड़ने में बचाव दल को सफलता हाथ लगी।

सीसीएफ एसएस उद्दे ने बताया है कि दोनों बाघ शावकों को सुरक्षित कान्हा रेस्क्यू सेंटर ले जाया गया है।यहां दोनों बाघ शावकों का डाक्टरी परीक्षण के बाद देखभाल की जाएगी।इसके बाद भोपाल से निर्देश मिलने पर जंगल में वापस छोड़ा जाएगा।

उगली क्षेत्र में बाघ तेंदुए व अन्य हिंसक वन्य प्राणी के नजर आने से ग्रामवासी दहशत में हैं। इससे पूर्व भी तेंदुए और बाघ के हमले में लगभग 3 लोगों की जानें जा चुकी हैं। जिसके कारण ग्रामवासियों में हमेशा दहशत बनी रहती है। मंगलवार को सुबह गांव के समीप तालाब में बाघ शावकों के नजर आने पर ग्रामीण दहशत में आ गए थे।

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Hz Add

Post Top Ad